Breaking News
Home / ग़ाज़ीपुर / विकास कार्यो में अनियमितता पर भड़के डीएम

विकास कार्यो में अनियमितता पर भड़के डीएम

गाजीपुर। जिलाधिकारी के. बालाजी ने बिरनो ब्लाक, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, बिरानो, कासिमाबाद क्षेत्र के ग्राम रामपुर बागपुर, कासिमाबाद सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, कासिमाबाद ब्लाक एवं कासिमाबाद तहसील का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने विकास खण्ड बिरनो में स्वच्छ भारत मिशन, 14वां वित्त एवं राज्य वित्त में अवशेष धनराशि के व्यय किये जाने के सम्बन्ध में, हैण्डपम्प रिबोर्र, जल निकासी सम्बन्धित विवादो के निस्तारण तथा ग्राम पंचायतो के लम्बित जांच आदि की समीक्षा की समीक्षा के दौरान सहायक विकास अधिकारी पं0 एवं जिला समन्वयक (स्वच्छता) द्वारा संतोष जनक उत्तर न दिया गया। तथा जिला पंचायत राज अधिकारी द्वारा विकास खण्ड बिरनो से सम्बन्धित ग्राम पंचायतो के लम्बित जांच के निस्तारण में लापरवाही बरती गयी जिस पर नाराजगी व्यक्त करते हुए सहायक विकास अधिकारी पंचायत बिरनो, जिला समन्वयक (स्वच्छता) को चेतावनी देते हुए निर्देश दिया गया कि एक सप्ताह में समस्त कार्यो में सुधार लाने तथा जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देश दिया गया कि एक सप्ताह के अन्दर लम्बित शिकायतो के जांच की कार्यवाही में बरती गयी लापरवाही के लिए उत्तरदायी अधिकारियों/कर्मचारियों के विरूद्ध कार्यवाही हेतु प्रस्तावित करने को कहा। इसके पश्चात जिलाधिकारी ने नविन सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बिरनो का निरीक्षण किया गया।निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने नविन सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बिरनों को शिफ्ट करने के सम्बन्ध में मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि दिनांक 11 फरवरी, 2018 से उक्त केन्द्र पर स्वास्थ्य सम्बन्धी सम्पर्क कार्य प्रारम्भ हो जायेगा एवं मुख्य चिकित्साधिकारी ने बताया कि इस स्वास्थ्य केन्द्र की कुछ जमीन पर अवैध अतिक्रमण किया गया है। जिसके सम्बन्ध में उपजिलाधिकारी सदर को निर्देश दिया गया कि अवैध अतिक्रमण हटाये जाने के सम्बन्ध में तत्काल आवश्यक कार्यवाही करते हुए अवगत कराने को कहा।  जिलाधिकरी ने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर तैनात सभी अधिकारियो/कर्मचारियों को निर्देश दिया कि वे अपने वर्दी में रहकर मरीजो का उपचार करने का निर्देश दिया। प्रभारी चिकित्साधिकारी विरनो को रोगी कल्याण समिति में प्राप्त धनराशि के व्यय के सम्बन्ध में बैठक आयोजित कराने को कहा। इसके पश्चात सीएससी कासिमाबाद पहुचे निरीक्षण के समय वहा एलटी, टीवी, डिलिवरी, दवा वितरण रजिस्टर, एचबी टेस्टीग रजिस्टर एवं टेन्टल मशीन का अवलोकन किया एसबी टेस्टीग कक्ष में रंनिंग वार्टर नही पाया गया तथा स्वास्थ्य केन्द्र पर साफ-सफाई का अभाव रहा। डेन्टल रजिस्टर के अनुसार निरीक्षण के समय कुल 3 मरीजो का इलाजा किया गया था तथा ओपीडी रजिस्टर के अनुसार कुल 58 मरीजो का चिकित्सीय उपचार किया गया था। डिलिवरी कक्ष की गेलरी में विद्युत लाईट अभाव था जिसपर नाराजगी व्यक्त करते हुए मुख्य चिकित्साधिकारी, प्रभारी चिकित्साधिकारी कासिमाबाद को जनरेटर, विद्युत व्यवस्था, साफसफाई एक सप्ताह के अन्दर कराने का निर्देश दिया। प्रभारी चिकित्साधिकारी को निर्देश दिया कि प्रत्येक 3 माह में उपजिलाधिकारी एवं रोगी कल्याण समिति के पदाधिकारियों के साथ फरवरी में बैठक आयोजित करने को कहा। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के मुख्य द्वार पर खड़ा किये गये मुख्यमंत्री सचल चिकित्सा वाहन जो निष्प्रयोज हालत में है को जनपद मुख्यालय पर भेजे जाने हेतु मुख्य चिकित्साधिकारी को कहा। परिसर में गन्दगी पाये जाने पर प्रभारी चिकित्साधिकारी को 4 से 5 स्थानो पर डस्टवीन रखते हुए साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने को कहा। इस अवसर पर मुख्य चिकित्साधिकारी जीसी मौर्या, उपजिलाधिकारी कासिमाबाद भगवानदीन, जिला पंचायत राज अधिकारी लाल जी दूबे, खण्ड विकास अधिकारी कासिमबाद धनंजय सिंह, आदि अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित रहे।

About admin

Check Also

गंगा सुरक्षा समिति के सदस्य बनाये गये अमरनाथ तिवारी

गाजीपुर। भारत सरकार की महत्वकांक्षी योजना के तहत गंगा के निर्मलकरण अभियान के अंतर्गत सभी …