Breaking News
Home » ग़ाज़ीपुर » वर्षो बाद मकर संक्रांति पर बन रहा है शुभ संयोग, स्नान 15 जनवरी को

वर्षो बाद मकर संक्रांति पर बन रहा है शुभ संयोग, स्नान 15 जनवरी को

लखनऊ। सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने पर होने वाला पर्व मकर संक्राति में इस बार लंबे अंतराल पर शुभ संयोग बन रहा है। इस बार भगवान सूर्य का आज मकर राशि में प्रवेश बीस मिनट देरी से होगा। इस बार 17 वर्ष बाद शुभ संयोग है। वर्ष की सबसे बड़ी संक्रांति पर आज सूर्य दोपहर 1.45 बजे मकर राशि में प्रवेश करेंगे। इस बार 17 साल बाद कई शुभ संयोग मिल रहे हैं। मकर राशि शनिदेव की अपनी राशि है। इस तरह पिता सूर्य का अपने पुत्र की राशि में प्रवेश होगा। मकर संक्रांति से शुभ कार्य प्रारम्भ होंगे, लेकिन 4 फरवरी तक शुक्रअस्त होने से शादियों का योग नहीं है। सूर्य जब मकर राशि में प्रवेश करता है तो मकर संक्रांति होती है। आज दोपहर में सूर्य का मकर राशि में प्रवेश होना है। ज्योतिषाचार्यो के अनुसार, मकर संक्राति पर उदयकाल महत्वपूर्ण नहीं होता। हर वर्ष सूर्य के धनु से मकर राशि में आने का समय बढ़ जाता है। इस बार भी 20 मिनट बढ़ा है। संक्रांति से 15 घंटे पहले और बाद का समय पुण्यकाल होता है। अब आने वाले कुछ वर्ष तक 14 जनवरी को ही मकर संक्रांति होगी। इस बार आज तथा कल मकर संक्रांति का संयोग मिलने से दोनों दिन स्नान-दान होंगे। सूर्य के उत्तरायन होने से सूर्य की किरणों सीधे धरती पर पडऩे लगेंगी और सर्दी का अवसान होने लगेगा। मकर संक्रांति से देवताओं का दिन प्रारम्भ होता है। दक्षिणायन में धरती पर सूर्य का प्रकाश कम आ पाता है, इसलिए सर्दी होती है। मकर राशि शनि देव की अपनी राशि यानी घर है। मकर राशि में सूर्य का प्रवेश रविवार को होगा। मकर संक्रांति को सूर्य अपने पुत्र शनिदेव से गुस्सा त्याग कर उनके घर (मकर राशि) में गए थे। इस दिन पवित्र नदी में स्नान, दान, से पुण्य हजार गुना हो जाता है। मकर संक्रांति पर तिलादि का दान इसलिए किया जाता है क्योंकि यह देवान्न है व ऊर्जा का प्रतीक है। मकर संक्रांति से शुभ कार्य तो प्रारम्भ हो जाएंगे लेकिन विवाह तथा अन्य आयोजन के लिए चार फरवरी तक ठहरना होगा। ज्योतिषाचार्यो के अनुसार इस बार शुक्र चार फरवरी तक अस्त रहेंगे। हर वर्ष सूर्य के धनु से मकर राशि में आने से दिन का समय करीब 20 मिनट बढ़ जाता है। करीब 72 वर्ष के बाद एक दिन के अंतर पर सूर्य मकर राशि में आता है। अब सूर्य के मकर राशि में प्रवेश का समय 14 और 15 के बीच में होने लगा क्योंकि यह संक्रमण काल है। वर्ष 2012 में सूर्य का मकर राशि में प्रवेश 15 जनवरी को हुआ था। इसलिए मकर संक्रांति इस दिन मनाई गई। ज्योतिष गणनाओं पर विश्वास करें तो आने वाले कुछ वर्ष में मकर संक्रांति हर साल 15 जनवरी को ही मनाई जाएगी। ज्योतिषाचार्य डा.सुशांत राज के अनुसार करीब इस गणना के अनुसार 5000 साल बाद मकर संक्रांति फरवरी के अंतिम सप्ताह में मनाई जाने लगेगी। ज्योतिषीय गणना के अनुसार रविवार को दोपहर 1 बजकर 45 मिनट पर सूर्य का मकर राशि में प्रवेश करेगा। देवी पुराण के अनुसार, संक्रांति से 15 घंटे पहले और बाद तक का समय पुण्यकाल होता है। संक्रांति 14 तारीख की दोपहर में होने की वजह से साल 2018 में मकर संक्रांति का त्योहार 14 जनवरी को मनाया जाएगा और इसका पुण्यकाल सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक होगा जो बहुत ही शुभ संयोग है क्योंकि इस साल पुण्यकाल का लाभ पूरे दिन लिया जा सकता है। 15 जनवरी को उदया तिथि के कारण भी मकर संक्रांति कई जगह मनाई जाएगी। इस दिन मकर राशि में सूर्योदय होने के कारण करीब ढाई घंटे तक संक्रांति के पुण्यकाल का दान पुण्य करना भी शुभ रहेगा। संक्रांति में दान का विशेष महत्व होता है। बिना दान संक्रांति का कोई औचित्य ही नही। इसलिए इस साल प्रयाग माघ मेले में मकर संक्रांति का स्नान दोनों दिन यानी 14 और 15 जनवरी को होगा।

About admin

Check Also

एसपी ने 15 उप निरीक्षकों को किया इधर से उधर

गाजीपुर। पुलिस अधीक्षक सोमेन वर्मा ने मंगलवार की देर रात 15 उप निरीक्षकों का फेरबदल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *