Breaking News
Home » ग़ाज़ीपुर » यादव व चमार के आरक्षण पर ब्रेक लगाने की भाजपा-भासपा की कवायद शुरु

यादव व चमार के आरक्षण पर ब्रेक लगाने की भाजपा-भासपा की कवायद शुरु

शिवकुमार

लखनऊ। भाजपा और भासपा पार्टी की नजर यादव व चमार जाति के आरक्षण पर लगी हुई है। भासपा के सुप्रीमो व कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर और भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह दिल्‍ली में सोमवार को इस मुद्दे पर बैठकर गहन मंत्रणा किये। इन दोनों राष्‍ट्रीय नेताओं का मानना है कि 27 प्रतिशत पिछड़ों के आरक्षण पर तीन अक्‍टूबर 2013 को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जो फैसला दिया है उसे लागू होने से ही अति पिछड़ों व अति दलितों का भला हो सकता है। बैठक के संदर्भ में कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने पूर्वांचल न्‍यूज डाट काम को बताया कि भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह से आरक्षण तथा अन्‍य कई मुद्दों पर बातचीत हुआ। उन्‍होने कहा कि हाईकोट इलाहाबाद ने यह फैसला दिया था कि यादव, यदुवंशी, ग्‍वाल, डड़होर, चमार, जाटव, झुसियां जाति अपने आबादी के सापेक्ष कई गुना ज्‍यादा आरक्षण का लाभ ले चुके हैं। इनका आरक्षण रोककर अन्‍य अति पिछड़े व अति दलितों को लाभ देना चाहिए। जिससे की वह मुख्‍य धारा में आ सकें। श्री राजभर ने बताया कि हमने अमित शाह जी को यह सुझाव दिया है कि पिछड़ी जाति के 27 प्रतिशत आरक्षण के लिए तीन श्रेणीया बना दी जाय। ए श्रेणी में उन जातियों को रखा जाय जो अपने आबादी के सापेक्ष आरक्षण का लाभ ज्‍यादा ले चुके हैं। बी श्रेणी में उन जातियों को रखा जाय जो अपने आबादी के सापेक्ष आरक्षण का कुछ लाभ लिया है और कुछ बाकी है। सी श्रेणी में उने बिरादरी को रखा जाय जिनको आरक्षण का लाभ बिलकुल नही मिला है। इसके बाद उन्‍होने भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष से यह भी आग्रह किया कि केंद्र सरकार लोकसभा और विधानसभा में पिछड़ों के 27 प्रतिशत आरक्षण के लिए सदन में प्रस्‍ताव लायें। इन दोनों नेताओं की मंत्रणा का चर्चा राजनीतिक गलियारों में जोर-शोर से होने लगा है। राजनीतिक सूत्र इसे मिशन 2019 के लिए अमोघ शस्‍त्र बता रहे हैं।

About admin

Check Also

गरीबों और किसानों के मसीहा थें कामरेड सरजू पांडेय

कासिमाबाद। महान स्वाधीनता सेनानी पूर्व सांसद एमएलसी तथा मेहनतकश आवाम के नेता कामरेड स्वर्गीय सरयू …