Home » ग़ाज़ीपुर » वृक्षारोपण मानव समाज का सांस्कृतिक दायित्व- रत्नाकर

वृक्षारोपण मानव समाज का सांस्कृतिक दायित्व- रत्नाकर

गाजीपुर। वृक्षारोपण मानव समाज का सांस्कृतिक दायित्व है। मानव सभ्यता का उदय और आरम्भिक आश्रय प्रकृति यानि वन-वृक्ष ही रहे है। उसकी सभ्यता-संस्कृति के आरम्भिक विकास का पहला चरण भी वन-वृक्षों की सघन छाया में ही उठाया गया, उपरोक्त बातें आज काशी क्षेत्र के संगठन मंत्री रत्नाकर ने पंडित दिनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी वर्ष कार्यक्रम एवं समीक्षा बैठक में कही। नगर में स्थित एक मैरिज हाल में आयोजित कार्यक्रम में रत्नाकर ने कहा कि जिस प्रकार धर्म और ग्रंथों में पति पत्नी को सात जन्मों का साथी माना गया है। उसी आधार पर भारतीय जनता पार्टी द्वारा पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी वर्ष कार्यक्रम के अंतर्गत जिले के सभी बूथों में 25 वृक्षों का वृक्षारोपण किया जाएगा। जिसका पति पत्नी द्वारा संयुक्त रुप से रोपण किया जाएगा। श्री रत्नाकर ने कहा कि पूरे काशी क्षेत्र में गाजीपुर जिला अग्रणी रूप से अपनी उपस्थिति दर्ज कर कराता आ रहा है। उन्होंने शताब्दी वर्ष की चर्चा करते कहा कि हमारे पास जिले स्तर पर, मंडल स्तर पर, बूथ स्तर पर और क्षेत्र और प्रदेश स्तर तथा राष्ट्रीय स्तर पर कार्यक्रमो की भी संरचना है। पंडित दिनदयाल जी के विचारों के हम अनुयायी है। हमारी राजनैतिक व्यवस्था पंडित दीनदयाल जी के दिए मार्गदर्शन पर ही चल रही है। हमसब उनको अपना एक आराध्य स्वरूप मानकर चित्र भी लगाते हैं, पुष्पार्चर्ण भी करते हैं। दीनदयाल जी के जीवन के जो व्यवहारिक दर्शन और वैचारिक दर्शन है इनको हमने अंगीकार किया है। उसके आधार पर ही भारतीय जनता पार्टी की पूरी संरचना हैं। जिन प्रदेशों में सरकारें हैं कोशिश यही करते हैं कि हमारे जो दर्शन है उसके ही अनुकूल समाज की संरचना और समाज के व्यवहार भी बनाए, यानी सरकार भी दिनदयाल जी के लिए विचारों के साथ जुड़कर और उसके अनुकूल अपनी शासकीय संरचना स्थापित करें। इस संदर्भ में हम प्रयास भी कर रहे है। इस समय जब हम पंडित दीनदयाल जी के जीवन के 100 वर्ष पूर्ण हो हो चुके हैं तो जो हमारे पूर्वज हैं जो हमारे आराध्य है जिनके विचारों के आधार पर जमीन पर सारा काम कर रहे हैं तो हम सभी में उनके प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करनी चाहिए। श्री रत्नाकर जी ने मंडल और बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं पर जोर देते कहा कि हमारा कार्यकर्ता ही हमारी पार्टी की पहचान है। शताब्दी वर्ष के अंतर्गत सभी कार्यक्रमों का सफल निष्पादन कार्यकर्ताओं के अथक प्रयास से ही संभव है जिसे लेकर संग़ठन और शीर्ष नेतृत्व पूरी तरह से आश्वस्त है। उन्होंने बताया कि शताब्दी वर्ष के कार्यक्रमों के अंतर्गत मुख्य रूप से वृक्षारोपण, सामान्यज्ञान प्रतियोगिता का आयोजन, रक्तदान शिविर का आयोजन बूथ और मंडल स्तर पर करना है। साथ ही साथ केंद्र सरकार के योजनाओं से लाभान्वित होने वाले लाभार्थियों को सम्मानित भी करना है। उन्होंने कहा कि हम समाज परिवर्तन के लिए राजनीति और सरकार चला रहे है, न किसी के व्यक्तिगत जीवन और सम्मान के लिए ये सरकार नही चला रहे है। इस परिवर्तन की ही देन है कि हम आज केंद्र में भी सरकार बनाये और प्रदेश में भी सरकार बना चुके है। कार्यक्रम का शुभारंभ श्री रत्नाकर जी ने श्रधेय पंडित दीनदयाल उपाध्याय और श्यामा प्रसाद मुखर्जी के चित्र पर माल्यार्पण और दीप प्रज्वल्लित कर के किया। कार्यक्रम के प्रारम्भ में जिलाध्यक्ष श्री भानुप्रताप सिंह ने अपने उद्बोधन में मुख्य अथिति का स्वागत पूरे जिलें की तरफ से किया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से जिला प्रभारी नन्द जी पांडेय, मुहम्मदाबाद की विधायक अलका राय, पूर्व जिलाध्यक्ष सच्चिदानंद राय,  विजेंद्र राय,  नगरपालिका अध्यक्ष विनोद अग्रवाल,  रेल राज्यमंत्री के प्रतिनिधि सुनील सिंह, पूर्व विधायक उदय प्रताप सिंह, जिला कोषाध्यक्ष अच्छेलाल गुप्ता, प्रोफेसर ज्ञान सिंह, विजय शंकर राय, रामतेज पांडेय, प्रदेश मंत्री युवा मोर्चा योगेश सिंह, नगर अध्यक्ष रासबिहारी राय,  जिलाध्यक्ष भाजयुमो राजेश भारद्वाज, व्यासमुनि राय, रामहित राम, अखिलेश सिंह, जिला महामंत्री द्वय ओम प्रकाश राम एवं ओमप्रकाश राय पूर्व नगर अध्यक्ष अर्जुन सेठ, सरोज कुशवाहा, सरोज मिश्रा, रजनीश सिंह तथा सभी मंडलों के अध्यक्ष एवं कार्यक्रम प्रभारी उपस्थित रहे।

About admin

Check Also

चांद दिखा, ईद सोमवार को

गाजीपुर। कड़ी पाबंदियों के साथ एक माह की रोजेदारी का इनाम मिलने का वक्त अब …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *